Home Upaay (उपाय) शनि आरती Shani Aarti

शनि आरती Shani Aarti

SHARE
number one astrologer in India भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man astrology consultancy service

हर शनिवार को शनि महाराज की पूजा करने के बाद शनि आरती भी करनी चाहिए. इसलिए शनिदेव की कृपा उनके श्रद्धालुओ पर बनी रहती है. जिन पर शनि देव का प्रकोप जारी रहता है या शनि की ढैय्या अथवा शनि की साढ़ेसाती का प्रभाव रहता है उन्हे हर शनिवार को शनि आरती अवश्य पढ़नी चाहिए.

जय जय श्री शनिदेव भक्तन हितकारी ।
सूरज के पुत्र प्रभु छाया महतारी ।। जय-जय…
श्याम अंक वक्र दृष्ट चतुर्भुजा धारी ।
नीलांबर धार नाथ गज की असवारी ।। जय-जय…
क्रीट मुकुट शीश सहज दिपत है लिलारी ।
मुक्तन की माल गले शोभित बलिहारी ।। जय-जय…
मोदक मिष्ठान पान चढ़त हैं सुपारी ।
लोहा तिल तेल उड़द महिषी अति प्यारी ।। जय-जय…
देव दनुज ऋषि मुनि सुरत नर नारी ।
विश्वनाथ धरत ध्यान शरण हैं तुम्हारी ।। जय-जय…


शनि संबंधित अन्‍य लेख

  1. शनि की दशा का प्रभाव और फल
  2. शनि ग्रह और उसके उपचार Shani ke upchar
  3. कुण्‍डली में शनि ग्रह 
  4. शनि : लाल किताब के अनुसार 
  5. शनि की साढ़ेसाती और उसका प्रभाव
  6. शनि : रोग, पीड़ा, दान और उपचार
  7. शनि के लिए मंत्र
  8. चमत्कारिक शनि सिद्धपीठ 
  9. शनि स्तोत्र
  10. शनि आरती

अगर आपकी शनि की महादशा चल रही है और आप मुझसे कुण्‍डली विश्‍लेषण कराना चाहते हैं तो इसके लिए आप हमारी दो प्रकार की सर्विस में से किसी एक सर्विस को ले सकते हैं। सामान्‍य टेलिफोनिक विश्‍लेषण के लिए 1100 रुपए जमा कराएं और एनालिसिस रिपोर्ट लेने के लिए 5100 रुपए जमा कराएं। आप हमारी वार्षिक विश्‍लेषण की सेवा भी ले सकते हैं, आगामी एक वर्ष के विश्‍लेषण के लिए आपको 5100 रुपए जमा कराने होते हैं।