SHARE
number one astrologer in India भाग्‍यशाली पुरुषों के लक्षण Physical character of A Lucky Man astrology consultancy service

श्रीवासुदेवानन्दसरस्वतीविरचितं गणपतिस्तोत्रम

निर्विघ्नार्थं हरीशाद्या देवा अपि भजन्ति यम ।
मर्त्यै: स वक्रतुण्डोsर्च्य इति गाणेशसम्मतम ।।1।।

जगत्सृष्ट्यादिहेतु: सा वरा श्रुत्युक्तदेवता ।
गणानां त्वेति मन्त्रेण स्तुतो गृत्समदर्षिणा ।।2।।

इत्युक्तं तत्पुराणेsतो गणेशो ब्रह्मणस्पति: ।
महाकविर्ज्येष्ठराज: श्रूयते मन्त्रकृच्च स: ।।3।।

मन्त्रं वदत्युक्थमेष प्रनूनं ब्रह्मणस्पति: ।
यस्मिन्निन्द्रादय: सर्वे देवा ओकांसि चक्रिरे ।।4।।

स प्रभु: सर्वत: पाता यो रेवान्यो अमीवहा ।
अतोsर्च्योsसौ यश्चतुरो वसुवित्पुष्टिवर्धन: ।।5।।

वक्रतुण्डोsपि सुमुख: साधो गन्तापि चोर्ध्वग: ।
येsमुं नार्चन्ति ते विघ्नै: पराभूता भवन्ति हि ।।6।।

ये दूर्वांकुरलाजाद्यै: पूजयन्ति शिवात्मजम ।
ऎहिकामुष्मिकान भोगान भुक्त्वा मुक्तिं व्रजन्ति ते ।।7।।

।।इति श्रीवासुदेवानन्दसरस्वतीविरचितं गणपतिस्तोत्रम सम्पूर्णम।।

SHARE
Previous articleशनि के लिए मंत्र Shani Ke liye Mantra
Next articleषष्ठी देवी स्तोत्र Shashti devi Strotam
ज्‍योतिषी सिद्धार्थ जगन्‍नाथ जोशी भारत के शीर्ष ज्‍योतिषियों में से एक हैं। मूलत: पाराशर ज्‍योतिष और कृष्‍णामूर्ति पद्धति के जरिए फलादेश देते हैं। आमजन को समझ आ सकने वाले सरल अंदाज में लिखे ज्योतिषीय लेखों का संग्रह ज्‍योतिष दर्शन पुस्‍तक के रूप में आ चुका है। मोबाइल नम्‍बर 09413156400 (प्रतिदिन दोपहर 12 बजे से शाम 5 बजे तक उपलब्‍ध)