Home Blackmagic क्‍या खोया प्‍यार वापिस मिल सकता है? How to Get Your Love...

क्‍या खोया प्‍यार वापिस मिल सकता है? How to Get Your Love / Ex Back

SHARE
get your love back blackmagic vashikaran
get your love back blackmagic vashikaran

समझ पकड़ने के बाद जीवन का सबसे खूबसूरत अहसास प्रेम का होता है। एक तरफ युवाओं में हार्मोनल बदलाव चल रहा होता है, शारीरिक शक्ति और सौंदर्य परवान पर होते हैं, उसी दौर में युवक को कोई एक विशिष्‍ट युवती और युवती को कोई एक विशिष्‍ट युवक पसंद आने लगता है।

परन्‍तु यह सबकुछ इतना सरल और स्‍पष्‍ट नहीं होता। मन भी चंचल होता है और चित्‍त में भी समय के साथ विकार आने लगते हैं। परिणाम यह होता है कि जो शुरूआती आकर्षण बहुत शक्तिशाली होता है, समय के साथ मंद पड़ने लगता है। चाहे कैसी भी सौगंध खाई गई हो, चाहें कितनी भी अंतरंगता रही हो, एक दौर ऐसा आता ही है कि सम्‍बन्‍धों में शिथिलता आने लगती है, दूरी बढ़ने लगती है और कई बार सम्‍बंध टूटने (Love Relationship Breakup) की कगार पर आ खड़ा होता है।

भाग्‍यशाली होते हैं वह लोग जिनका सम्‍बंध स्‍थाई बन जाता है और विवाह कर वे पति पत्‍नी के रूप में सुखद जीवन जीते हैं, लेकिन हर किसी के भाग्‍य में इतना सफल प्रेम संबंध नहीं होता है, परिणाम यह होता है कि युवक अथवा युवती अथवा दोनों ही अपने खोए प्रेम को (Lost Love), छूटे रिश्‍ते को (Breakup), प्‍यार की टूटी डोर को फिर से बांधने का प्रयास करते नजर आते हैं। यह दौर कुछ दिनों का, कुछ महीनों का और कुछ मामलों में सालों तक चलने वाला दौर सिद्ध होता है।

इस प्रकार के आकर्षण और विकर्षण और अंतत: संबंध टूटने को किसी तर्क की कसौटी पर नहीं जांचा जा सकता। पसंद क्‍यों आया? कोई कारण नहीं, आकर्षण क्‍यों हुआ, कोई कारण नहीं, विकर्षण या मोहभंग क्‍यों हुआ, कोई कारण नहीं, अंतत: संबंध क्‍यों टूट गया, इसका भी कोई स्‍पष्‍ट कारण बहुधा अव्‍यक्‍त ही रहता है। यही कारण है कि टूटे हुए संबंध को फिर से जोड़ने की आस में युवक और युवतियां हर संभव प्रयास करते हैं, इसी क्रम में उनका परिचय ज्‍योतिषी, तांत्रिक अथवा मनोचिकित्‍सकों से होता है।

इंटरनेट पर ऐसी वेबसाइट की भरमार है जो यह दावा करती है कि वे आपको खोया प्‍यार लौटा देंगे अथवा ब्रेकअप के बाद फिर से रिलेशन जोड़ने में मदद कर सकते हैं। इन वेबसाइट्स के संचालक या मुख्‍य कार्यकारी व्‍यक्ति के बारे में कोई स्‍पष्‍ट सूचना नहीं होती, आपको केवल एक नम्‍बर दिया गया होता है। वेबसाइट पर चस्‍पा किए गए लेखों में अधिकांश इस प्रकार के शीर्षक दिए गए होते हैं

  • क्‍या खोया प्‍यार मिल सकता है (get your ex back)
  • मेरी प्रेयसी मुझसे वापस कब बात करना शुरू करेगी (love problem solution)
  • क्‍या मेरी प्रेयसी के जीवन में कोई दूसरा लड़का है (does my ex have another person)
  • क्‍या मेरा प्रेम संबंध पुन: स्‍थापित हो पाएगा (love problem solution specialist)
  • क्‍या किसी मंत्र के जाप से मैं अपनी प्रेयसी को पा सकता हूं (get your ex back mantra)
  • वशीकरण से क्‍या उपाय हो सकता है (get love back by vashikaran)
  • क्‍या वशीकरण से उसे वापस हासिल किया जा सकता है (vashikaran mantra to get love back in hindi)
  • क्‍या कोई ऐसा मंत्र है, जिससे मैं उसे हासिल कर सकूं (get your ex back spell)
  • काला जादू द्वारा प्रेमी को वापिस पाएँ (get your love back by black magic)
  • वशीकरण एक्सपर्ट बाबा जी (get love back by vashikaran)

इसी प्रकार के प्रेम संबंध और लव मैरिज या कहें गंधर्व विवाह से संबंधित सैकड़ों सवाल ज्‍योतिषी होने के नाते मैं भी सालों से सुनता रहा हूं। इसका सही जवाब है कि ज्‍योतिष से यह पता नहीं लगाया जा सकता।

जब मैं कहता हूं कि ज्‍योतिष से इसका पता नहीं लगाया जा सकता, तो अगला प्रश्‍न होता है कि इंटरनेट पर, पत्रिकाओं में, समाचारपत्रों में आने वाले विज्ञापनों में बताया गया होता है कि खोया प्‍यार कैसे पाएं, सौ प्रतिशत गारंटी से प्‍यार पाएं, इच्छित व्‍यक्ति से शादी करें (Love Vashikaran) आदि आदि दावे किस आधार पर किए गए होते हैं। इसका जवाब है कि यह जातकों को ठगने के लिए जाल बिछाया गया होता है।

देखा जाए तो प्रेम बहुत कोमल अवधारणा है। जब कोई जातक प्रेम में हो तो वह साइकोलॉजिकली बहुत कमजोर स्‍तर पर होता है। विपरीत लिंग के प्रति आकर्षण की यह स्थिति होती है कि टूट रहे या टूट चुके संबंध को फिर से जोड़ने के लिए हर संभव प्रयास करने के लिए तैयार रहता है। इसी कमजोर मानसिकता का लाभ ज्‍योतिष बाजार के ठग उठाने का प्रयास करते हैं। 

ज्‍योतिष क्‍या मदद कर सकता है?

ज्‍योतिष विषय में प्रेम और विवाह को लेकर बहुत स्‍पष्‍ट निर्णय है कि किसी जातक की कुण्‍डली में

  • प्रेम करने के योग हैं या नहीं? (Love in your Birth Chart)
  • प्रेम विवाह के योग हैं या नहीं? (Love Marriage in your Birth Chart)
  • उसके और प्रेमी की कुण्‍डली से कैसा मेलापक बनता है? (Melapak of boy and girl)
  • प्रेम विवाह का योग है या अरेंज मैरिज का? (Arrange marriage or love marriage)
  • अरेंज मैरिज पसंद के लड़के से होगी या नहीं? (Arrange marriage with love one)
  • प्रथम संबंध या कहें प्रेम संबंध टूटने के योग हैं या नहीं? (Breakup with boyfriend or girlfriend)
  • जातक का विवाह कब होगा? (When will marriage take place)
  • जातक के प्रेमी का विवाह कब होगा? (When will your lover get married)
  • वैवाहिक जीवन कैसा रहेगा? (How will be our married life)

उपरोक्‍त निर्णय के बारे में ज्‍योतिष में स्‍पष्‍ट योगायोग और स्‍पष्‍ट फलादेश मिल जाते हैं। इसके अलावा अगर कोई जातक पूछे कि अमुक स्‍त्री अथवा पुरुष से मेरे विवाह का योग है या नहीं, यह भी नहीं बताया जा सकता। यानी जातक का विवाह किसके साथ होगा, यह बताना लगभग असंभव है। एक ही जातक की कुण्‍डली का अनुकूल मेलापक (Horoscope Matching) सैकड़ों कुण्‍डलियों से अनुकूल मिल सकता है, लेकिन विवाह एक से ही होता है। बहुधा ऐसा भी होता है कि जातक के जीवन के शुरूआती दौर में अरेंज मैरिज हो और बाद में विवाह विच्‍छेद हो जाए और अंतत: अन्‍य कन्‍या अथवा पुरुष से प्रेम होकर पुन: विवाह हो। ये सभी स्थितियां द्वितीय, पंचम, सप्‍तम और एकादश भाव के संबंधों पर निर्भर करती हैं। किसी एक कोण या किसी एक योग से इनके बारे में स्‍पष्‍ट निर्णय नहीं दिया जा सकता।

मेरे ब्‍वॉयफ्रेंड/गर्लफ्रेंड से कुण्‍डली मिलान करवाना है

इन सालों में इस प्रकार के सवाल बहुत बार आते हैं। प्रत्‍यक्षत: यह सवाल अपने भीतर ही खोट लिए हुए है। इनमें से अधिकांश को मेरा जवाब होता है कि या तो प्रेम होगा या कुण्‍डली मिलान, दोनों एक साथ नहीं हो सकते। कुण्‍डली मिलान (Kundali Matching) एक प्रक्रिया है जो अरेंज मैरिज या कहें प्रजापत्‍य या दैव विवाह के लिए एक जरूरी अवयव है। जब वर और वधू एक दूसरे को निजी तौर पर नहीं जानते या कहें दोनों के बीच दैहिक और भावनात्‍मक संबंध नहीं बना है, उस सूरत में दोनों की कांपेटिबिलिटी या कहें मेलापक जांचने के लिए कुण्‍डली का मिलान किया जाता है। अधिकांश मामलों में यह नक्षत्र के आधार पर किया गया मेलापक सफल सिद्ध होता है। अपवाद हर सिद्धांत में होते हैं और सौ प्रतिशत मेलापक नहीं मिल सकता, ऐसे में मेलापक के बावजूद दांपत्‍य जीवन में कठिनाई आ सकती है। एक ज्‍योतिषी का प्रयास यह होता है कि उपलब्‍ध विकल्‍पों में से सर्वश्रेष्‍ठ मेलापक का निर्णय दे। अगर एक स्‍त्री और एक पुरुष में पहले से दैहिक और भावनात्‍मक संबंध है तो प्रेम विवाह या कहें गंधर्व विवाह की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, ऐसे में ज्‍योतिषी से कुण्‍डली मिलान करवाना सैद्धांतिक रूप से गलत है।

प्रेम विवाह के योग

  • शुक्र पंचम, सप्‍तम, नवम अथवा एकादश भाव में हो तो जातक प्रेम में जरूर पड़ता है।
  • पंचम भाव नष्‍ट हो रहा हो तो जातक का प्रेम संबंध टिकता नहीं है।
  • पंचम भाव में चंद्रमा हो तो जातक एक से अधिक संबंध बनाएगा।
  • पंचम भाव में राहू हो तो जातक का प्रथम संबंध अवश्‍य टूटेगा।
  • अगर वर और वधु के मेलापक में 18 से कम गुण मिल रहे हों तो विवाह के बाद प्रेम बने रहने की संभावना कम होती है।

प्रेम विवाह कब सफल होता है (Success in love life)

स्‍त्री और पुरुष दोनों की कुण्‍डली में पंचम, नवम और एकादश अनुकूल हो और शुक्र का बल मिल रहा हो, तभी दोनों जातकों का प्रेम विवाह होगा और मेलापक अनुकूल होने पर विवाह के बाद भी दोनों जातक प्रेमपूर्ण संबंधों का निर्वाह करते हुए जीवन व्‍यतीत करते हैं।

ज्‍योतिष में किसी कार्य के पूरे होने के योग होते हैं तो उन्‍हें योगकारक ग्रह स्थिति कहते हैं। कई बार योगकारक स्थितियां होने के बाद भी कई कारकत्‍व भंग के योग भी होते हैं। यानी योग बन रहा है, लेकिन किसी दूसरे ग्रह की किसी भाव में पोजीशन, किसी दूसरे ग्रह की दृष्टि, किसी दूसरे दो ग्रहों की युति के कारण योग का कारकत्‍व भंग हो जाता है। ऐसे में कई बार काम आधा अधूरा बनकर भंग हो जाता है।

प्रेम संबंध बनकर टूटने के यही योगभंग कारक होते हैं। इसके साथ ही दशाओं का भी महत्‍वपूर्ण प्रभाव होता है। अगर प्रतिकूल दशा चल रही हो, तो कार्य पूरा होने के बजाय असंतुष्टि ही हासिल होती है। ऐसे में एक सफल प्रेम विवाह के लिए कुण्‍डली में अनुकूल योग होने चाहिए, इन अनुकूल योगों को भंग करने वाले कारक नहीं होने चाहिए और दशाएं भी अनुकूल होनी चाहिए, तभी सफल प्रेम और प्रेम विवाह होना संभव हो पाता है।


एक ज्‍योतिषी के रूप में आपकी मदद

विश्‍लेषण कर पता किया जाए कि आपकी कुण्‍डली में सफल प्रेम का योग है या नहीं (Love Marriage in Kundali)। आपके संबंध टूटने के योग हैं या नहीं। आपकी दशा वर्तमान में क्‍या चल रही है। आपकी प्रेयसी अथवा प्रेमी की कुण्‍डली का विश्‍लेषण किया जा सकता है। दोनों का मेलापक किया जा सकता। विवाह के बाद आपका दांपत्‍य जीवन कैसा रहेगा। इस प्रकार के विश्‍लेषण में प्रति कुण्‍डली विश्‍लेषण के लिए आपको 1100 रुपए फीस जमा करानी होती है। फीस जमा कराने के बाद आप फोन पर विश्‍लेषण ले सकते हैं। अगर आपका समय प्रतिकूल है तो उसके लिए उपचार किए जा सकते हैं। आपकी खुद की कुण्‍डली के लिए विस्‍तृत विश्‍लेषण 5100 रुपए जमा करवाकर प्राप्‍त कर सकते हैं।